Krishna’s Energy Divine Protection Amulet.

Krishna's Energy Divine Protection Amulet.(Tabeez) Costs 5000 Rs.
It makes you feel positive
Remove all negativity from life
It makes Krishna's aura around you
– For making The Human life better & prosperous Every Living Moment.
– The Divine Companionship Of Supreme Personality of Godhead in the form of Krishna's Protection Amulet
– Power Of Indian Scientific Vedic Astrology.
– One Time Decision For Life Healing
– Helping to Remove Bad Planetary Energy and Bad Luck

Helping to Remove Black Magic and Evil Attached to You
– The Vedic Remedy/Jyotish/ Astrologist Amulet /Locket of Luck is a most effective Strengthening and Protecting

 

रुद्राभिषेक से क्या क्या लाभ मिलता है ?

रुद्राभिषेक से क्या क्या लाभ मिलता है ?
🔸🔸🔹🔸🔸🔹🔸🔸🔹🔸🔸 
शिव पुराण के अनुसार किस द्रव्य से अभिषेक करने से क्या फल मिलता है अर्थात आप जिस उद्देश्य की पूर्ति हेतु रुद्राभिषेक करा रहे है उसके लिए किस द्रव्य का इस्तेमाल करना चाहिए का उल्लेख शिव पुराण में किया गया है उसका सविस्तार विवरण प्रस्तुत कर रहा हू और आप से अनुरोध है की आप इसी के अनुरूप रुद्राभिषेक कराये तो आपको पूर्ण लाभ मिलेगा।

श्लोक
🔸🔹🔸
जलेन वृष्टिमाप्नोति व्याधिशांत्यै कुशोदकै

दध्ना च पशुकामाय श्रिया इक्षुरसेन वै।

मध्वाज्येन धनार्थी स्यान्मुमुक्षुस्तीर्थवारिणा।

पुत्रार्थी पुत्रमाप्नोति पयसा चाभिषेचनात।।

बन्ध्या वा काकबंध्या वा मृतवत्सा यांगना।

जवरप्रकोपशांत्यर्थम् जलधारा शिवप्रिया।।

घृतधारा शिवे कार्या यावन्मन्त्रसहस्त्रकम्।

तदा वंशस्यविस्तारो जायते नात्र संशयः।

प्रमेह रोग शांत्यर्थम् प्राप्नुयात मान्सेप्सितम।

केवलं दुग्धधारा च वदा कार्या विशेषतः।

शर्करा मिश्रिता तत्र यदा बुद्धिर्जडा भवेत्।

श्रेष्ठा बुद्धिर्भवेत्तस्य कृपया शङ्करस्य च!!

सार्षपेनैव तैलेन शत्रुनाशो भवेदिह!

पापक्षयार्थी मधुना निर्व्याधिः सर्पिषा तथा।।

जीवनार्थी तू पयसा श्रीकामीक्षुरसेन वै।

पुत्रार्थी शर्करायास्तु रसेनार्चेतिछवं तथा।

महलिंगाभिषेकेन सुप्रीतः शंकरो मुदा।

कुर्याद्विधानं रुद्राणां यजुर्वेद्विनिर्मितम्।

अर्थात
🔸🔹🔸
जल से रुद्राभिषेक करने पर — वृष्टि होती है।
कुशा जल से अभिषेक करने पर — रोग, दुःख से छुटकारा मिलती है।
दही से अभिषेक करने पर — पशु, भवन तथा वाहन की प्राप्ति होती है।
गन्ने के रस से अभिषेक करने पर — लक्ष्मी प्राप्ति
मधु युक्त जल से अभिषेक करने पर — धन वृद्धि के लिए। 
तीर्थ जल से अभिषेकक करने पर — मोक्ष की प्राप्ति होती है।
इत्र मिले जल से अभिषेक करने से — बीमारी नष्ट होती है ।
दूध् से अभिषेककरने से — पुत्र प्राप्ति,प्रमेह रोग की शान्ति तथा मनोकामनाएं पूर्ण
गंगाजल से अभिषेक करने से — ज्वर ठीक हो जाता है।
दूध् शर्करा मिश्रित अभिषेक करने से — सद्बुद्धि प्राप्ति हेतू।
घी से अभिषेक करने से — वंश विस्तार होती है।
सरसों के तेल से अभिषेक करने से — रोग तथा शत्रु का नाश होता है।
शुद्ध शहद रुद्राभिषेक करने से —- पाप क्षय हेतू।
इस प्रकार शिव के रूद्र रूप के पूजन और अभिषेक करने से जाने-अनजाने होने वाले पापाचरण से भक्तों को शीघ्र ही छुटकारा मिल जाता है और साधक में शिवत्व रूप सत्यं शिवम सुन्दरम् का उदय हो जाता है उसके बाद शिव के शुभाशीर्वाद सेसमृद्धि, धन-धान्य, विद्या और संतान की प्राप्ति।

This is Jiten from F The Couch, it’s an online casting company of Suniel Shetty and Mukesh Chhabra. Currently, we are looking for

Hi Vedant,

This is Jiten from F The Couch, it's an online casting company of
Suniel Shetty and Mukesh Chhabra. Currently, we are looking for people who can review on Bollywood movies. It's a paid project. If you are interested. kindly send your profile to raojitu1425@gmail.com. Send your profile details like- Your name, age, height, contact number, work experience, languages and most important your current location. Our website:- www.fthecouch.com,

Thank You

Regards
Jiten
F The Couch

Energized Tiger Eye Bracelet Costs 1000 rs.

Energized Tiger Eye Bracelet Costs 1000 rs.
It increases will power courage confidence a good luck bringing stone that protects the wearer from evil thoughts and ill wishes of enemies. It also possesses many healing properties. Tiger Eye reduces the chronic pains, improves the strength of spines, and detoxifies the body. It also relieves stomach and digestion related ailments.
Tiger Eye Stone Will Sharpen Your Power During Wearing

Tiger Eye Stone is considered as one of the ancient talisman, powerful and mysterious feared stone that would bring the wearer with ability to observe everything as well as closed doors.

Tiger’s Eye normally chosen by Egyptians for its eyes on the deity statues for expressing the divine vision.
In fact it is believed that this offers the great myth for protection of the sun and earth combined.
They are called as Ra, sun god and Geb as well as the Geb, god of growing land in Egypt.
The Stone is also linked along with magical tiger and also called as “King of Beasts” in Eastern mythology Tiger’s Eye portrays
Courage
Right use of power
Integrity
According to the Roman legends, Tiger’s Eye carried deflects weapons so that they use it to become worship in the war.

Your remedy saved my job

[4:22 PM, 2/8/2018] Meera: Thank u so much sir [4:22 PM, 2/8/2018] Meera: Your remedy saved my job

Energized Sphatik Bracelet Costs 1000 rs.

Energized Sphatik Bracelet Costs 1000 rs.
It enhances energy by absorbing, storing, amplifying, balancing, focusing and transmitting. Sphatik is a stone of clarity and dispels negativity. … Bracelet made from Sphatik crystal gives concentration, cools the body, and calms the mind. Sphatik Bracelet brings down the body heat of the person wearing it.

जब सूर्य, पृथ्वी और चन्द्रमा एक सीधी रेखा में आ जाते है तो यह खगोलीय घटना चंद्र ग्रहण कहलाती है

जब सूर्य, पृथ्वी और चन्द्रमा एक सीधी रेखा में आ जाते है तो यह खगोलीय घटना चंद्र ग्रहण कहलाती है। चंद्र ग्रहण का ज्योतिष में बड़ा ही महत्तव है। जिस दिन ग्रहण रहता है, उस दिन ग्रहण के समय से 9 घंटे पहले सूतक काल शुरू हो जाता है। ज्योतिष के अनुसार ग्रहण वाले दिन कुछ खास उपाय किए जाए तो कुंडली के दोषों को दूर किया जा सकता है। ध्यान रखें सूतक काल में पूजा-पाठ नहीं करना चाहिए, इसीलिए पूजा-पाठ से संबंधित उपाय सूतक से पहले करना चाहिए।

चंद्र ग्रहण वाले दिन ध्यान रखना चाहिए ये बातें
सूतक के समय और ग्रहण के समय भगवान की मूर्ति का स्पर्श नहीं करना चाहिए। इस दिन भगवान के नाम का जाप करते हुए दान करना चाहिए। पवित्र नदी में स्नान, हवन आदि कर्म करने से पुराने पाप नष्ट होते हैं और किस्मत का साथ मिल सकता है।

राशि अनुसार चंद्र ग्रहण के उपाय।

1. मेष- मेष राशि के लोगों को परेशानियों से बचने के लिए मंगल से संबंधित वस्तु जैसे गुड़ और मसूर की दाल का दान करना चाहिए।

2. . वृषभ- वृष राशि के लोग मानसिक तनाव को दूर करने के लिए इस दिन श्री सूक्त का पाठ करें और मंदिर में अन्न दान करें।

3. मिथुन- मिथुन राशि के लोग बीमारियों को और गरीबी को दूर करने के लिए गाय को पालक या हरी घास खिलाएं, किसी गौशाला में धन का दान करें।

4. कर्क- जिन लोगों की राशि कर्क है, उन्हें इस दिन सूतक से पहले शिवजी की विशेष पूजा करनी चाहिए। ऊँ सों सोमाय नम: मंत्र का जाप करना चाहिए।

5. सिंह- इस राशि के लोगों को क्रोध जल्दी आता है। इन्हें क्रोध पर काबू पाने के लिए इस दिन गायत्री मंत्र का जाप 108 बार करना चाहिए। दान करें।

6. कन्या- धन संबंधी कामों की परेशानियों को दूर करने के लिए किसी किन्नर को हरी चूड़ियां दान करें। गाय को पालक खिलाएं।

7. तुला- चंद्र ग्रहण वाले दिन सूतक से पहले श्री सूक्त का पाठ करें। अन्न का दान करें।

8. वृश्चिक-मानसिक तनाव दूर करने के लिए हनुमानजी के सामने घी का दीपक जलाएं और हनुमान चालीसा का पाठ करें।

9. धनु- पैसों से जुड़ी परेशानियों को दूर करने के लिए श्री विष्णुसहस्त्रनाम का पाठ करें। गाय फल खिलाएं।

10. मकर- जिन लोगों की राशि मकर है, उन्हें बीमारियों से बचने के लिए सुंदरकांड का पाठ करना चाहिए। काले तिल का दान करें।

11. कुंभ- चंद्र ग्रहण वाले दिन सूतक से पहले हनुमान चालीसा का पाठ करें। काली उड़द का दान करें।

12. मीन-इस राशि के लोग सूतक से पहले भगवान विष्णु की पूजा करें और गरीबों को केले बाटें।

खग्रास चन्द्रग्रहण – 31 जनवरी 2018 (भूभाग में ग्रहण समय – शाम 5.17 से रात्रि 8.42 तक) (पूरे भारत में दिखेगा, नियम पालनीय ।)

 

खग्रास चन्द्रग्रहण – 31 जनवरी 2018
(भूभाग में ग्रहण समय – शाम 5.17 से रात्रि 8.42 तक) (पूरे भारत में दिखेगा, नियम पालनीय ।)

चन्द्रग्रहण बेध (सूतक) का समय
सुबह 8.17 तक भोजन कर लें ।

बूढ़े, बच्चे, रोगी और गर्भवती महिला आवश्यकतानुसार दोपहर 11.30 बजे तक भोजन कर सकते हैं । रात्रि 8.42 पर ग्रहण समाप्त होने के बाद पहने हुए वस्त्रोंसहित स्नान और चन्द्रदर्शन करके भोजन आदि कर सकते हैं ।

ग्रहण पुण्यकाल
जिन शहरों में शाम 5.17 के बाद चन्द्रोदय है वहाँ चन्द्रोदय से ग्रहण समाप्ति (रात्रि 8.42) तक पुण्यकाल है ।

जैसे अमदावाद का चन्द्रोदय शाम 6.21 से ग्रहण समाप्त रात्रि 8.42 तक पुण्यकाल है ।

शहरों का स्थान और चन्द्रोदय
नीचे कुछ मुख्य शहरों का चन्द्रोदय दिया जा रहा है उसके अनुसार अपने-अपने शहरों का ग्रहण के पुण्यकाल का जानकर अवश्य लाभ लें ।

इलाहाबाद (शाम 5.40), अमृतसर (शाम 5.58), बैंगलुरू (शाम 6.16), भोपाल (शाम 6.02), चंडीगढ़ (शाम 5.52), चेन्नई (शाम 6.04), कटक (शाम 5.32), देहरादून (शाम 5.47), दिल्ली (शाम 5.54), गया (शाम 5.27), हरिद्वार (शाम 5.48), जालंधर (शाम 5.56), कोलकत्ता (शाम 5.17), लखनऊ (शाम 5.41), मुजफ्फरपुर (शाम 5.23), नागपुर (शाम 5.58), नासिक (शाम 6.22), पटना (शाम 5.26), पुणे (शाम 6.23), राँची (शाम 5.28), उदयपुर (शाम 6.15), उज्जैन (शाम 6.09), वड़ोदरा (शाम 6.21), कानपुर (शाम 5.44)
(इन दिये गये स्थानों के अतिरिक्तवाले अधिकांश स्थानों में पुण्यकाल का समय लगभग शाम 5.17 से रात्रि 8.42 के बीच समझें ।)

ग्रहण के समय पालनीय

(1) ग्रहण-वेध के पहले जिन पदार्थों में कुश या तुलसी की पत्तियाँ डाल दी जाती हैं, वे पदार्थ दूषित नहीं होते ।
जबकि पके हुए अन्न का त्याग करके उसे गाय, कुत्ते को डालकर नया भोजन बनाना चाहिए ।

(2) सामान्य दिन से चन्द्रग्रहण में किया गया पुण्यकर्म (जप, ध्यान, दान आदि) एक लाख गुना । यदि गंगा-जल पास में हो तो चन्द्रग्रहण में एक करोड़ गुना फलदायी होता है ।

(3) ग्रहण-काल जप, दीक्षा, मंत्र-साधना (विभिन्न देवों के निमित्त) के लिए उत्तम काल है ।

(4) ग्रहण के समय गुरुमंत्र, इष्टमंत्र अथवा भगवन्नाम जप अवश्य करें, न करने से मंत्र को मलिनता प्राप्त होती है ।

Padmaavat Emerges Blockbuster (3,6,9) is family of no.

Padmaavat poster.jpg

Padmaavat Emerges Blockbuster
(3,6,9) is family of no.
Sanjay Leela Bhansali is no.6 (24 February)
Ranveer Singh is no.6 (6 July 1985) running in his most lucky 33rd(6) year winning accolades from all over
Deepika Padukone was born on 5 January so she is no.5 which is also compatible with 3 & 6
Title Padmaavat adds to 30(3) which is also compatible with crew of film
Release Date was 24th(6) Jan. paid previews were held on 24th jan night so release date is also very much compatible with title